Monday 17 March 2008

मुसीबत का देवदूत

एक आदमी एक बार सड़क पर जा रहा था कि उसने पीछे से एक आवाज सुनी, " अगर तुमने एक कदम भी आगे बढ़ाया तो एक ईंट तुम्हारे ऊपर गिरेगी और तुम मर जाओगे"
आदमी घबराकर एकदम से रुक गया और एक ईंट उसके सामने आकर गिरी। आदमी बहुत खुश हुआ। 
वह अपने रास्ते चल दिया और थोड़ी देर बाद वो एक चौराहे पर पहुंच कर सड़क पार करने लगा।
एक बार फिर जोर से आकाशवाणी हुई, "रुको! चुपचाप खडे रहो! अगर तुमने एक कदम भी बढ़ाया तो एक कार तुम्हें कुचल देगी  और तुम मर जाओगे"
आदमी ने घबराकर फिर से जैसा कहा गया था वैसा किया, तुरंत ही एक कोने से कार आई और उसको लगभग छूती हुई निकल गई। 
तब आदमी ने पूछा "तुम कौन हो?"
"मैं तुम्हें मुसीबतों से बचाने वाला देवदूत हूं। " आवाज ने जबाव दिया। 
"ओह, अच्छा?" आदमी ने आश्च्रर्य जताते हुआ कहा "लेकिन तुम तब कहां थे जब मेरी शादी हो रही थी"

4 comments:

सागर नाहर said...

:)

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया!!!

सागर नाहर said...

काश हमें भी वह देवदूत मिल जाये... ;P

Vibha Rani said...

i, patni, neta, abhineta ke sade hue jokes se ham kab baahar nikal payenge? duniya bahut badi hai, hansi charo or bikhari padi hai, apne jivan me use khojie, milegi- har nagar, har dagar.